Top 10 important Retail KPI’S Metrics For Retail Store

Retail KPI'S Metrics
Retail KPI'S Metrics

क्या आप रिटेल स्टोर की performance बढ़ाने के लिए Retail KPI’S Metrics की तलाश कर रहे है .क्या आप सोच रहे है की अपने स्टोर की सेल्स को बढ़ाने के लिए क्या कर सकते है .हमने स्टोर के लिए 10 Retail KPI’S Metrics मैट्रिक्स की सूचि Ready की है.जिसे आपको सीखना चाहिए और अपनेस्टोर में Retail KPI’S Metrics का यूज़ करना चाहिए।

Retail KPI’S Metrics को दो प्रकार के आधार पर विभाजित किया गया है.

  1. sale आधारित metrics
  2. shoppers आधारित मैट्रिक्स

Retail KPI’S Metrics ?

अपने अगर kpi’s  के बारे में जरूर सुना होगा लेकिन अपने इनका इस्तिमाल नहीं किया होगा. KPI’S(Key performance  Indicator) का यूज़ Daily बेसिस पर होता है और इससे आप जान पते हो की आपके स्टोर का क्या performance चल रहा है.आप सेल्स track कर पाते और कस्टमर को ट्रैक कर सकते.तो हम आपको विस्तार से बताने जा रहे है।




Retail KPI’S List

  1. Basket Size
  2. Ticket Size
  3. Conversion
  4. Average selling price (ASP)
  5. Employee sale
  6. Sales per square feet per day.
  7. Gross Margin.
  8. Sell through.
  9. Week cover.
  10. Comparison metrics.

यह पर मेने कुछ Top 10 KPI’S लिख दी और इनके बारे में हम नीचे विस्तार जानेंगे। अगर आप SOP का Full form जानना चाहते तो हमारा ये लेख पढ़े –Sop full form in Hindi

Retail Management Books
Retail Management Books

BUY NOW

Basket Size क्या होता है। ?

Basket size को हम UPT (Unit per Transaction) भी कहते है. इसकी परिभाषा क्या है. ग्राहक के द्वारा किये गए एक Transaction में सामानो की संख्या को हम Basket Size कहते है.

उदहारण : मान लेते है एक कस्टमर ने स्टोर से 10000 रुपए की खरीदारी की है और 20 Quantity का उसने ये एक ही Transaction में पेमेंट दिया है .तब basket size (UPT ) क्या होगा।

फार्मूला :  [total sold Quantity /Total No OF Bill=  20 Qty / 1 bill.

Ticket Size क्या होता है। ?

Ticket size को हम कुछ फॉर्मेट में ABS (Average Bill Sales ) या फिर AST (Average Sales Per Transaction) भी कहते है. तो इसमें आप कन्फुज़ मत हो ,इसकी परिभाषा से हम समजते है ,ग्राहक के द्वारा किये गए एक transaction में खरीदारी की total value को हम ticket size या ABS कहते है.

उदहारण :मान लेते है किसी कस्टमर ने स्टोर से 2000 रुपए की खरीदारी की और उसका ये बिल सिंगल transaction में किया गया तो ticket size होगा 2000 इसी तरह टोटल स्टोर का निकलते है मान लेते है स्टोर की sales 200000 लाख रुपए और transaction किये गए 150 (no of bill ) तब टिकट साइज क्या होगा। 

फार्मूला :Total sales /total  no of bill=  200000 /150 =1333




Conversion क्या होता है। ?

conversion आपको ये बताता है की आप के स्टोर में कितने कस्टमर को एक अच्छी सर्विस दी जा रही है या नहीं इसकी परिभाषा जानते है. स्टोर में आये ग्राहकों की संख्या और खरीदारी करके जाने वालो की संख्य से हम conversion का पता लगाते है इसे  कन्वर्शन कहते है।

फार्मूला : Total No Of Bill /total customer footfall *100

Average selling price (ASP) क्या होता है। ?

ASP products तो products  भिन्न हो सकते है ,जैसे jewelry और electronic की ASP ये high selling price होता है जबकि CD ,Books ,chocolate इनका ASP low selling price होता है. ASP कंपनी को ये इंगित कराती है की कंपनी को किस मार्केट स्ट्रैटेजी का पीछा करना चाहिए. ये मार्केट स्ट्रैटेजी बनाने का मुख्य कारन है।

ASP से पता चलता है की हम स्टोर में किस MRP का products हम ज्यादा sell कर रहे है. और हमें क्या ज्यादा sell करना चाहिए जससे ASP को increase किया जा सके. हमें high value products को जयादा से जयादा sell करनी चाहिए जिससे ASP बढ़ सके।

उदहारण : स्टोर में कुल sell की गयी products की संख्या 500 qty है और कुल value (sell amount ) 200000 लाख रुपए है तो कुल average selling price क्या होगा?

 फार्मूला : Total sell/total products Quantity : ASP = 200000 /500 =400




Par Employee sale कैसे निकलते है ?

अगर हम जानना चाहते है की हमारे Employee की average sell क्या हो रही है या फिर कोन employee sell कर रहा है और कोना उन employee में sell नहीं कर रहा है तो हम  स्ट्रैटेजी को अपनाते है . इसे हम स्टोर की कुल sell से या फिर department sell से भी माप सकते है।

उदहारण : मान लेते है स्टोर की sell 200000 लाख रुपए है और कुल sell employee 20 है. इसमें manager को add नहीं किया गया है. तब average employee sell क्या होगी। 

फार्मूला : Total Store sell / total sell employee : par employee sell = 200000 /20 =10000 /employee

Sales per square feet per day क्या है ?

sales per square feet per day ये एक सबसे अच्छी बिक्री metric में से एक है.जिसका यू आप एक Brick and mortar स्टोर की performance देखने के लिए कर सकते है.ये आपको बता सकता है की स्टोर layout ,merchandise display ,staff परफॉरमेंस इन सब में सुधार के लिए आपको इंगित करता है। 

इसे कैलकुलेट कैसे करते देखते है , प्रति वर्ग स्क्वायर फुट पर sell को कैलकुलेट करते है। 

उदहारण : मान लेते है एक स्टोर का कुल selling Area 7000 square foot है .और उसकी एक दिन की sell 200000 लाख रुपया है। तो उसदिन का sales square foot कितना होगा।

फार्मूला :Total Store sales /total selling Area: Sales square foot =200000 /7000 =28.57sqft.

Note : sales square foot निकलते समय शॉप की उस स्पेस को न जोड़े जो sell के लिए यूज़ नहीं किया जाता जैसे स्टाफ रूम ,आदि. 

Gross Margin क्या है ?

gross Margin ये कंपनी की नेट sales value (revenue ) होती है जिसे COGS (Cost Of Goods Sold ) से घटा (minus) कर निकला जाता है. इससे कंपनी कितना मार्जिन प्राप्त कर रही है .ये पता चल जाता है।

फार्मूला : Gross Margin =Net sale -COGS (COGS -Cost Of Goods Sold)




Sell through क्या है?

Sell through एक समय के दौरान बेचीं गयी प्रोडक्ट्स संख्या की इकाई का एक प्रतिशत है.(जैसे :1 Month) इसे calculate करने के लिए आपको month की शुरुआत में प्रोडक्ट्स inventory की संख्या के बारे में पत होना चाहिए और month End में Sold प्रोडक्ट्स Quantity के बारे में ,सोल्ड इन्वेंटरी को Beginning of month इन्वेंटरी से divide करते है. 

उदहारण :मान लेते है आप एक Retailers है ,और आप manufacture से 1000 shirts खरीदते है.तो आपका Beginning स्टॉक्स होगा 1000 shirts और आप month के End तक 500 शर्ट्स sell कर देते है तब आपका Sell through 50% होगा। 

फार्मूला : Sold Qty /Inventory BOM (Beginning of month )*100 Sell through =500 /1000*100  = 50%

उदहारण : मान लेते है की की month के दौरान अपने 300 shirts sold करदी है और आपको 500 shirts फिर से स्टॉक्स वेंडर से प्राप्त होता है तो आपका End of month स्टॉक 1500 shirts है.

Beginning Of Month Stocks = EOM 1500 -300 Sold यूनिट +500 प्राप्त यूनिट =1700 स्टॉक्स

Sell through: sold unit /inventory BOM*100 . Sell through=300 /1700*100  = 17.65 %

Week-cover क्या होता है ?

week cover से हम weekly कितनी Quantity sell करते है. ये जान सकते है कितने week तक हमें Stocks की Requirement नहीं होगी. या कितने week का stock हमारे पास available है. AS पर Retail फॉर्मेट Healthy week cover 13th week का होता है. लेकिन ये संख्या compan to company अलग अलग हो सकती है। 

फार्मूला : stock on hand/sold qty in week.

Comparison metrics क्या है ?

ये कोई एक सिंपल मेट्रिक है जिसे हम Retail KPI’S Metrics में रोज यूज़ करते है. जैसे हम YOY (year over year ) MOM (Month over month ) WOW (Week over week ), इससे हम अपने बिज़नेस को last year से compare करते है ,last week से या last month से. 

अगर आपको ये Article पसंद आया हो तो share करे और comment करके बातये।

Retail Management Book
Retail Management Books

BUY NOW

More Article

Conclusion 

आशा करता हूँ आपको मेरा retail kpi formulas in hindi कैसा लगा ,अगर आप ये आर्टिकल पढ़ रहे हो तो बेसक आप Retail sector में हो , आप इस आर्टिकल को अपने employees के साथ अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे।

FAQS :Retail KPI Formula in Hindi?

Retail KPI Formula in Hindi?

अगर आप रिटेल kpi फार्मूला जानना चाहते है जैसे – ticket size ,basket size ,conversion ,ASP , gross margine ,sales square foot ,आदि  तो हमारा आर्टिकल जरूर पढ़े।

Basket Size Formula क्या है?

Basket size(Unit per Transaction) इसकी परिभाषा क्या है. ग्राहक के द्वारा किये गए एक Transaction में सामानो की संख्या को हम Basket Size कहते है. फार्मूला :  [total sold Quantity /Total No OF Bill=  20 Qty / 1 bill.

Ticket Size Formula क्या है?

ABS (Average Bill Sales ) या फिर AST (Average Sales Per Transaction) भी कहते है. फार्मूला :Total sales /total  no of bill=  200000 /150 =1333

6 COMMENTS

  1. Muje sale thrue achhe se samaj nhi aya. Pls can you help. Apki ye detail me samjana bahot hi achha lga. Thank you

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here