Cryptocurrency kya hai ओर crypto currency कैसे काम करती है | Future Of Currency

Cryptocurrency kya hai

Cryptocurrency kya hai ओर crypto currency कैसे काम करती है। भारत मे cryptocurrency का future क्या है। आप कैसे क्रिप्टो करेंसी खरीद सकते है।

दुनिया के इतिहास में देखा गया है कि मुद्र नाम की कोई चीज नही थी लोग एक दूसरे से ज़रूरत की चीजों का लेन देन करते थे लेकिन फिर मुद्रा का चलन चला और रबड़ ,लोहा ,तांबा ,पीतल,सोना ,कागज जैसे नोट चलन में आये ,आज हम सब जो currency इस्तिमाल करते है वो नोट ओर सिक्को के form में होती है लेकिन अब एक नई Genration ओर एक नई दुनिया की तरफ हम धीरे धीरे बढ़ते जा रहे है।ओर लेन देन के लिए अब फिजिकल करेंसी की जगह Digital Currency ले रही है, जिसको अब Cryptocurrency के नाम से जाना जा रहा है और इसका क्रेज तेजी से पूरी दुनिया मे बढ़ रहा है। आखिर cryptocurrency क्या है ?आइए जानते इसके बारे में विस्तार से 

Cryptocurrency का अर्थ क्या है ?

Cryptocurrency दो शब्दों से मिलकर बना है जैसे (Crypto+Currency) ये दोनों ही लैटिन भाषा का शब्द है लैटिन भाषा मे Crypto को Cryptography शब्द से लिया गया है जिसका अर्थ है -छुपा हुआ/हुइ ओर Currency को लैटिन भासा के Currentia से लिया गया है जिसका अर्थ है – मुद्रा होता है। cryptocurrency का अर्थ – छुपी ही मुद्रा (Secret Currency)

Cryptocurrency के Founder कौन हैं ?

सन 1983 में अमेरिका के cryptographer David Chaum ने एक Cryptographic Electronic Money की कल्पना की थी जिसे उस वक़्त E Cash कहा गया था। सन 1995 में इसको बदलाव करके Digicash नाम से अमल में लायी गयी। ओर digicash के काम करने का तरीका cryptographic protocol पर था जो खुद David chaum ने बनाया था। लेकिन वो इसे जायद सालो तक नही चला सके और सन 1998 में उन्होंने दिवालिया घोसित करके इसको दूसरी कंपनी को बेच दी।

Cryptocurrency क्या है ? (cryptocurrency in Hindi)

क्रिप्टो करेंसी एक वर्चुअल करेंसी है।इसे आप हाथ मे नही ले सकते क्योंकि ये सिक्के या नोट की तरह नही होती है ये तो Digital form में होती है जिसको आप देख सकते है लेकिन हाथ मे लेकर feel नही कर सकते। ये cryptographics के द्वारा सुरक्षित है इसको Decentralized System के द्वारा manage किया जाता है।इसमे हर एक लेन देन डिजिटल सिग्नेचर के द्वारा वेरिफिकेशन किया जाता है। दूसरे शब्दों में कहे तो इसको ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर आधारित virtual currency हैं। इसे copy करना लगभग मुश्किल है।

Cryptocurrency कैसे काम करती है।

क्रिप्टो करेंसी कैसे काम करती है आज हम जानेंगे हम आपको बताएंगे cryptocurrency का क्या प्रोसेस होता है स्टेप बाय स्टेप तो चलिए जानते हैं।

  • क्रिप्टो करेंसी का मेन काम एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में पैसे ट्रांसफर करना होता है और इस कार्य को Blockchain के माध्यम से किया जाता है।
  • Blockchain एक बैंक की तरह होती है जिस का काम होता है हर एक लेनदेन का रिकॉर्ड रखना क्रिप्टो करेंसी के सारे लेनदेन के रिकॉर्ड इस Blockchain में रिकॉर्ड होते हैं। जिससे धोखाधड़ी की संभावना काफी कम हो जाती है।
  • इस टेक्नोलॉजी की मदद से कुछ लोगों के द्वारा पावरफुल कंप्यूटर के माध्यम से इसके इसकी निगरानी और जांच की जाती है, इस प्रोसेस को क्रिप्टो की माइनिंग प्रोसेस कहते हैं।
  • माइनिंग की जांच और निगरानी करने के लिए एक कोड प्राप्त होता है और यह कौन तभी प्राप्त होता है जब वह एक गणित के सवाल का हल देते हैं।
  • माइनिंग प्रोसेस होने के बाद एक्सचेंज प्रोसेस शुरू हो जाता है इसमें cryptocurrency एक खाते से दूसरे खाते में ट्रांसफर होती है।
  • Cryptocurrency की खरीदारी ओर बिक्री के लिए हम इसको एक wallet में रखते जहाँ से हम अपने इसे सीधे खरीद ओर बेच सकते है।

वास्तव में ये एक ऐसा programme है जो public ओर private तौर पर चीजो को स्टोर कर सकता है और crypto का लेनदेन ओर उसको सिक्योर करने और निगरानी में उसको सक्षम बनाता है।इसी तरह ये cryptocurrency काम करती है।

Cryptocurrency Terms for beginners. (कुछ महत्वपूर्ण जानकारी)

अभी तक आप जान चुके है cryptocurrency क्या है और ये कैसे काम करती है लेकिन अब हम इससे related कुछ जानकारी और जान लेते है।

डीसेंट्रलाइज्ड (Decentralized)  :-Cryptocurrency के पास कोई एक Computer या सर्वर नही ,आम तौर पर crypto को हजारो Computer के network से होकर जाना होता यानी इसका कोई एक सर्वर नही है इसलिए इसको Decentralized कहा जाता है।

पीयर-टू-पीयर (Pear to Pear) :-Crypto currency को किसी बैंक या कोई third party से होकर नही गुज़रना पड़ता है ये डायरेक्ट person to person का एक Network बनाती है। इसी को pear to pear network बोलते है।

सूडोनिमस (sudonium )  :-इसका मतलब होता है आप जो भी crypto Coin खरीद ओर बेच रहे हो उसमे कोई भी personal जानकारी नई देनी होती न ही इसमे जरूरत होती है।

एन्क्रिप्टेड (Encrypted ) :-हर यूज़र को एक Code दिया जाता है। ताकि कोई भी अन्य यूज़र एक्सेस न कर सके और इनके सारे transaction encrypted रहे।

क्रिप्टोकरेंसी के प्रकार (Types of Cryptocurrency)

Cryptocurrency के कई प्रकार है जिनके बारे में हम अपने इस लेख में थोड़ा Cover करेंगे।

1. Bitcoin

बिटकॉइन एक क्रिप्टो करेंसी है ये दुनिया की सबसे बड़ी ओर पहेली करेंसीय इसकी शुरुआती कीमत 2010 में $0.0008(2549 INR) थी इसका all time high $64000(4860585 INR) तक जा चुका आप बिटकॉइन में भी इन्वेस्ट कर सकते है।

2. Ethereum

Ethereum दुनिया की 2nd largest cryptocurrency है लेकिन इसकी कीमत अभी bitcoin के तुलना में काफी कम है । इसकी शुरुआती कीमत 1 Coin $0.31 (26.25 INR) or आज की डेट में $2957.28 (224595 INR) ,Ethereum में transaction fees बहुत कम है और इसमे अब pending transaction की समस्या खत्म हो चुकी है। Ethereum में इन्वेस्ट करने लाभकारी हो सकता है।

3. XRP

XRP भुगतान के लिए बनाई गई एक डिजिटल संपत्ति है।  यह XRP लेजर पर मूल डिजिटल संपत्ति है – एक open-source, अनुमति रहित और decentralized blockchain तकनीक जो 3-5 सेकंड में लेनदेन का निपटान कर सकती है।

4. Cardano

Cardano चेंजमेकर्स, इनोवेटर्स और दूरदर्शी लोगों के लिए एक ब्लॉकचेन प्लेटफॉर्म है, जिसमें कई लोगों के साथ-साथ कुछ लोगों के लिए संभावनाएं पैदा करने और सकारात्मक global change लाने के लिए आवश्यक tools और technology हैं।

5. Binance Coin

यदि आप बिटकॉइन या एथेरियम के अलावा किसी अन्य प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना चाहते हैं तो बिनेंस कॉइन (BNB) एक उत्कृष्ट विकल्प हो सकता है।  CoinMarketCap पर, Binance Coin अब बाजार पूंजीकरण के मामले में #3 स्थान पर है, जिसका मार्केट कैप लगभग 100 बिलियन डॉलर है.

Dogecoin

Dogecoin सॉफ्टवेयर इंजीनियर बिली मार्कस और जैक्सन पामर द्वारा बनाई गई एक क्रिप्टोकरेंसी है, जिन्होंने उस समय क्रिप्टोकरेंसी में जंगली अटकलों का मजाक उड़ाते हुए “मजाक” के रूप में भुगतान प्रणाली बनाने का फैसला किया था।  इसे पहला “मेम सिक्का” और, विशेष रूप से, पहला “कुत्ते का सिक्का” दोनों माना जाता है.

Polkadot

Polkadot एक multiple Network है जो सेकड़ो ब्लॉकचैन एक साथ जोड़कर सिंगल Network बनाता है ओर वो ब्लॉकचैन जो polkadot से जुड़ जाती है उनको para chain कहा जाता है।ये chains आपस मे एक दूसरे के समांतर (parallel) चलती है।

  • Litecoin
  • Tether
  • Bitcoin Cash
  • Seller
  • Usd Coin
  • Tron
  • Monero
  • NEO
  • EOS
  • Cosmos
  • Dash
  • Terra
  • ETH

क्या Cryptocurrency India में legal है ?

भारत मे Cryptocurrency का क्रेज पिछले कुछ सालों में काफी दिलचसब हुआ लोग इसमे investment कर रहे । 2018 में RBI को ये मना किया गया था कि आप Crypto में involve नही हो सकते है लेकिन 2020 में supreme Court का आर्डर के अनुसार इसमे बोला गया था कि आप crypto में trade कर सकते है।ओर उसके बाद काफी लोगो ने इसपर invest करना चालू करदिया था । Crypto currency legal तौर पर इंडिया में trade की जा सकती है लेकिन Tender of payment mode में इसका इस्तिमाल नई किया जा सकता। एक उदहारण देकर समझते है 

उदहारण – जैसे आप PayTM से किसी भी दुकानदार को payment करके उससे Cash ले सकते हो क्योंकि अपने एक account से दूसरे एकाउंट में पैसे भेजे ओर cash ले लिया । वहीँ आप bitcoin या कोई भी crypto को transfer करके उससे पैसा कॅश नही ले सकते या इसका इस्तिमाल आप इंडिया में अभी trade के अलावा कही नही कर सकते।

Cryptocurrency price Fluctuation(क्रिप्टोक्यूरेंसी मूल्य में उतार-चढ़ाव)

Cryptocurrency एक Decentralized है इसपर किसी भी Government या Authority का कोई Control नहीं है इसलिए Government इसके prices ओर Economics Inflation का इसपर कोई असर नही होता लेकिन फिर भी इसके priceses घटते बढ़ते रहते इसके पीछे कारण है कि Crypto लिमिटिड होती है जैसे BitCoint को Max 21 million तक ही खरीद जा सकता है।अब जब डिमांड जायद होती है तो price बढ़ते है । कम होने पर घटते है। इसपर news का भी फर्क पढ़ता है।

जैसेElon musk ने कहाँ की उसकी टेस्ला कंपनी Bitcoin Accept करेगी तो Bitcoin के prices 30 लाख से 60 लाख तक पहुच गए लेकिन बाद में जब Elon musk ने बोला वो accept नही करेंगे तो prices बहुत तेजी में नीचे आ गए।

Cryptocurrency mining क्या है ?

Mining शब्द अपने पहेले भी सुना होगा लेकिन यहाँ पर हम crypto की mining करने के बात कर रहे तो जानते है Cryptocurrency mining क्या होती है ? Crypto एक Decentralized currency है जिसका Control किसी government या authority के पास नही इसके transaction को एक लेजर के द्वारा maintain किया जाता है जिसे हम ब्लॉकचैन कहते है। transactions के बीच मे बैंक की तरह एक mediator होता है जिसे हम Miner बोलते है जो mining करता है यानी उस transaction को verify करने का काम होता है ओर ये सब एक computer ओर software के माध्यम से किया जाता है। कई सारे Supercomputer transaction के code को solve करते है ओर वेरीफाई करके sender ओर receiver को crypto देते इसके बदले minner को भी कुछ rewards मिलता है जैसे कुछ bitcoin फिर वो उसे बेच कर पैसे कमाते है।

cryptocurrency की mining से पैसे कैसे कमाए

अगर आप Mining करना चाहते है तो आपको Crypto की mining के लिए घर पर एक set up लगा सकते है जिससे आप mining करके पैसा बना सकते है।इसके लिए आपको कुछ Supercomputer खरीदने होंगे ये Setup आप market से बने हुए ले सकते है। जिसकी कीमत 85000 से लेकर 2 crore तक हो सकती है। इसको लगाने के बाद आप रोज का $15 से $50 तक कमा सकते depend करता है आपका set up कितनी कॉस्ट का है ।

7 Best Cryptocurrency app

अगर आप crypto में trade करना चाहते है तो हम आपको india ki Best app के बारे में बता रहे जहाँ से आप cryptocurrency में खरीदारी कर सकते है 

  • eToro – 2022 में कुल मिलाकर सर्वश्रेष्ठ क्रिप्टो ऐप
  • Webull – छोटे हिस्से के साथ Cryptocurrency खरीदने के लिए सर्वश्रेष्ठ ऐप
  • Coinbase – शुरुआती लोगों के लिए Cryptocurrency में निवेश करने के लिए सर्वश्रेष्ठ ऐप
  • Binance – क्रिप्टोक्यूरेंसी ट्रेडिंग के लिए सर्वश्रेष्ठ ऐप
  • Gemini – बड़े निवेशकों के लिए सर्वश्रेष्ठ Cryptocurrency ऐप
  • WazirX -जो लोग crypto में नए है और शुरआत करना चाहते है ,
  • Coin Dcx– ये aap आपके crypto investment को इन्सुरेंस भी देता है।

Cryptocurrency investment

अगर आप  Crypto में investment करना चाहते है तो आप Trading में जा सकते है आपको Exchange में खुद को registered करके इनके wallet को download कर लेना और bank account को linked करके ट्रेडिंग कर सकते आप minimum Rs 100 से लेकर लाखो तक के Crypto Coin खरीद सकते है।

Cryptocurrency wallet क्या है ?

Wallet एक तरह की keys होती यानी ताले की चाबी तो ये keys को बहुत secure तरीके से बनाया जाता है।ताकि आपकी कीमती चीज safe रहे। crypto के लिए इंडिया में कई सारे wallets मौजूद है।

  • Binance
  • WazirX
  • ZenGo
  • Ledger
  • CoinDCX

क्रिप्टोकरेंसी के फायदे (Cryptocurrency Benefits)

  • Cryptocurrency में जो भी लेनदेन होता है वो सब ऑनलाइन होता है और ये आपके wallet के थ्रू खरीदी ओर बेची जाती है साथ ही इसकी security बहुत मजबूत होती है इसमे आपके bank account से कोई भी लेना देना नही होता है।इसलिए इसमे धोखाधड़ी की कोई गुन्जाईस नही।
  • इसमे bank Account की तरह transaction होते लेकिन बहुत निगरानी में ये काफी सुरक्षीत बैंक की तुलना में।
  • अगर आप credit card से कोई payment करते है तो आपको एक लिमिट मिलती ओर आपको क्रेडिट से payment में काफी चार्जेज लगते है वहीँ आपको crypto से payment करने पर बहुत ही कम चार्जर्स देने होते हैं और ज्यादा से ज्यादा ट्रांजैक्शन कर भी सकते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी से नुकसान (Cryptocurrency Drawbacks)

जब भी कोई चीज बनाई जाती है तो उसमें बहुत सी खासियत होती हैं लेकिन उसके साथ ही उसमें छोटी-छोटी कमियां भी होती हैं जिनका पता हमें धीरे-धीरे चलता है ऐसे ही क्रिप्टोकरंसी में बहुत सी खूबियां हैं लेकिन इसमें कुछ खामियां भी हैं चलिए उन कुछ खामियों के बारे में हम जानते हैं।

    • क्रिप्टो एक डिसेंट्रलाइज करेंसी है जिस पर किसी भी गवर्नमेंट का कंट्रोल नहीं है इस पर सभी का कंट्रोल है इसलिए अगर आपके साथ कोई घटना होती है तो आप इसकी Complain किसी गवर्नमेंट या Authority से नहीं कर सकते। इसका फायदा आपको है तो नुकशान भी आपको है।
    • ये एक Secret currency है तो लोग इसका इस्तिमाल unethical कामो में करते है।
  • Not Eco Friendly – की माइनिंग करने में बहुत ज्यादा पावर कंज्यूमर होती है इलेक्ट्रिसिटी consume होती है और resources कंस्यूमर होते हैं इसलिए ये भी एक नुकशान है।
  • जब भी आप क्रिप्टोकरंसी wallet के माध्यम से किसी को क्रिप्टोकरंसी देते हैं तो आप का ट्रांजैक्शन पूरा होने के बाद आप उससे क्रिप्टो वापस नहीं ले सकते जब तक वह ना चाहे।ऐसी नौबत तब आती है जब आप किसी को transaction कर रहे होते हैं और गलती से ट्रांजैक्शन किसी दूसरे के वॉलेट में चला जाए और आप उस से वापस लेना चाहे लेकिन उसकी मर्जी के बिना नहीं ले सकते। ये भी एक कमी है।
  • दूसरी सबसे बड़ी कमी इसमें यह है कि अगर आपकी क्रिप्टो वॉलेट आईडी खो जाती हैं तो आपको यह आईडी दोबारा नहीं दी जाती आप अपने क्रिप्टो की आईडी को दोबारा नहीं ले सकते और आपके वॉलेट में जितनी भी क्रिप्टोकरंसी stored है वह आप फिर कभी वापस नहीं ले पाओगे तो क्रिप्टो की एक सबसे बड़ी कमी है।

Read Also

FAQS

क्रिप्टो करेंसी कैसे काम करती है ?

Crypto एक Decentralized है ये ब्लॉकचैन पर आधरित है ये डायरेक्ट person to person होती है कोई भी इसके बीच मे mediator नही। इसके transaction कई सारे computer से होकर गुजरते है ओर ये एक mining process होता है । इसी तरह ये काम करती है।

क्रिप्टो करेंसी क्या इंडिया में लीगल है ?

हा ऐसा कहा जा सकता है ,2020 में supreme court के आर्डर के अनुसार crypto को trading के लिए लीगल करार दिया लेकिन इसे tender of payment के तौर पर अनुमति नही दी गयी ।

क्या फ्यूचर है क्रिप्टो करेंसी का ?

फ्यूचर में इन सभी करेंसी को अनुमति मिल सकती है और अनुमान लगया जा सकता है कि फ्यूचर में ये ओर जायद grow करेगी क्योंकि डिमांड बढ़ेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here