डिजिटल मार्केटिंग क्या है इन हिंदी ? full Guidance 

Digital Marketing kya hai hindi

Digital Marketing क्या है इन हिंदी

डिजिटल मार्केटिंग क्या है ,डिजिटल मार्केटिंग कैसे करते है ,हिंदी में जाने पूरी जानकारी step to step guide for new beginers एक आसान भाषा में जानते है हम डिजिटल मार्केटिंग के बारे में ,डिजिटल channals को डिजिटल प्लेटफार्म पर डिजिटल Tools से मार्केटिंग करने के प्रोसेस को डिजिटल मार्केटिंग कहते है। 

किसी कंपनी के प्रोडक्ट को किसी एक assoiciate द्वारा customer को बेचे जाने पर उस कंपनी द्वारा दिया गया कमीशन associate को एक affiliate बनता है और ये पूरा process affiliate marketing कहलाता है और इसमें digital platform का यूज़ करके product को sell करना या sell दिलाना digital Marketing कहलाता है।  

  • उदहारण :

मान लीजिए मेरा नाम राहुल है और में अपने पिता जी की क्लोथ्स शॉप पर बैठता हूँ.और मेने ये देखा की मेरे पिता जी की शॉप अब उतना बिज़नेस नहीं देती जितना वो इंटरनेट ना होने पर देती थी. तो उसका कारन था की मेरे पिता जी डिजिटल शॉप या ऑनलाइन शॉपिंग से अपडेट नहीं थे.

कुछ साल पहले सिर्फ मार्केटिंग की जाती थी और इसके लिए लोग MBA की प्रोफेशनल डिग्री भी करते थे.लेकिन धीरे धीरे इंटरनेट ने जैसे जैसे रफ़्तार पकड़ी उतनी तेजी से डिजिटल मार्केटिंग का दौर शुरू होने लगा.

अब हर एक बिज़नेस खुद की पहचान ऑनलाइन बना रहा है.और इसका सबसे ज्यादा फायदा डिजिटल में करियर बनाने वालो को या इसमें थोड़ी सी skill रखने वालो को मिल रहा है.हालांकि देखा जाये तो फिजिकली तौर पर जॉब्स में कमी आ रही है.लेकिन उतनी तेजी से डिजिटल जॉब्स  में इजाफ़ा भी हो रहा है.

डिजिटल मार्केटिंग यूथ के लिए क्यों आवश्यक है। 

डिजिटल मार्केटिंग आज की एक बढ़ती डिमांड है. और इसको समझना और सीखना भी उतना जरुरी है.जितना अपने जीवन में एक बिज़नेस को प्रॉफिटेबल बनाना.

आज एक new genration का टाइम है हमारे पिता और दादा के टाइम पर डिजिटल कुछ नहीं था सारा बिज़नेस जमनी स्तर पर था ,लेकिन आज हर एक बिज़नेस digitaly होता जा रहा है.

अब school और प्रोफेशनल कॉलेज में भी इसकी स्टडी होने लगी है.तो यूथ को भी इस स्किल को सीख कर अपने बिज़नेस या जॉब्स या फैमली बिज़नेस को ऑनलाइन ले जाना होगा और कस्टमर तक पहुंचना होगा.ताकि आपका बिज़नेस grow कर सके और आप मार्किट में भी बने रहे.

यूथ को बहुत जरुरी है की डिजिटल स्किल को सीखे.वैसे तो हम नार्मल लाइफ में डिजिटल चीजों का यूज़ करते ही है.लेकिन उनसे Online Earning  करने वाले लोग अभी इंडिया में बहुत काम लोग है.आप इसे एक पोफेशनल जॉब्स भी बना सकते है या बिज़नेस भी.

डिजिटल मार्केटिंग की जरुरत वर्तमान समय क्या है

डिजिटल मार्केटिंग वर्तमान समय में ये बिज़नेस को प्रॉफिटेबल बनाने में सफल तरीका है.covid 19 के इस दौर में जमीनी स्तर की शॉप पर तो ताले लग गए थे .लेकिन वही ऑनलाइन शॉप बखूबी अपना काम को अंजाम दे रहे थे आने वाला समय जब हर वयक्ति व्यस्त होगा तो वो डिजिटल चीजों का जयादा इस्तिमाल करके.अपने काम को करेगा। 

जैसे :ऑनलाइन कड़पे खरीदना,ऑनलाइन फ्रूट्स,वेजिटेबल,furniture ,electronics, software,hardware और यहाँ तक अपने लिए taxi जैसा की अभी ये सब हो रहा है .लेकिन ये बस अभी 688  million लोग है इंडिया में जो डिजिटल तरह से डिजिटल user है.

जैसे : Facebook ,twitter ,instagram, youtube…… 

डिजिटल मार्केटिंग कितने प्रकार की होती है। 

  1. Search Engine Optimization 
  2. Search Engine Marketing (SEM)
  3. Social media Marketing (SMM)
  4. Email Marketing
  5. Inbound Marketing
  6. Web Analytics
  7. Facebook marketing
  8. Others digital marketing.

Introduction to SEO (Search Engine Optimization )

seo structure

SEO क्या है  – ये एक लॉन्ग टाइम process है जो किसी भी वेबसाइट को first page पे लाने में helpfull है. अगर आप ब्लॉग्गिंग करना चाहते है तो आपको content को rank करने के लिए SEO भी करना होगा और उसके लिए SEO क्या है ये जानना और सीखना जरुरी हैl

SEO work कैसे करता है l

Visibilty ये SEO के  लिए बहुत महत्वपूर्ण पहलू है.अगर आप ब्लॉग पर कंटेंट लिखते है.और  कंटेंट लोगो तक ना पहुंचे तो आपकी महेनत जाया हो जाएगी इसलिए आपको SEO करके अपने content को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पहुँचाना महत्वपूर्ण है.

 SEO काम कैसे करता है जानते है इसके तीन factor है 

  1. Crawling 
  2. Indexing 
  3. Ranking 

क्रॉलिंग : Internet पर webpages का विश्लेषण करना ,सर्च इंजन को मिलने वाले कोड URL को स्कैन करता है l   

इंडेक्सिंग :  ये क्रॉलिंग के दौरान इकठा होने वाले कंटेंट सामग्री की proccess है.यदि आपका पेज क्रॉलिंग लिस्ट में है तो आपका पेज indexed किया गया है. search engine खोजी गयी Realated queries में इसका रिजल्ट यूजर को दिखाई  देता है। 

रैंकिंग :ये एक इंडेक्सिंग आर्डर है ,जिसमे आपके pages top रिजल्ट में दिखाई देते है.आपकी वेबसाइट पेजेज किस पोजीशन पे है,विभिन्न रैंकिंग कारक है search term अनुसार खोज अवधि के लिए सामग्री प्रासंगिकता के आधार पर SERP पर कोई वेबसाइट अधिक दिखाई देती है,

आर्गेनिक सर्च और पेड सर्च क्या है ?

Organic Search : अगर आप कोई कंटेंट लिखते है और उस content को social Media पर share करते है. और उस पर click करके जो भी यूजर आपकी वेबसाइट या ब्लॉग पर आता है. तो उसे हम आर्गेनिक सर्च कहते है.

Paid Search :यानि आपका कोई कंटेंट जिसका आप advertisement कर रहे google Ads या Social Media Ads पर और वहां से आने वाला ट्रैफिक paid search कहलाता है.

Keyword reserach क्या है 

ये किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट के लिए बहुत महत्वपूर्ण है.अगर आपको कोई कंटेंट लिखना है तो आपको सबसे पहले keyword research करनी होगी.देखना होगा की वह keyword SEO Dificulty क्या है ,

Search Ranking क्या है ,keyword के कई फैक्टर है इसके लिए आप SEMRUSH या ahrefs tools को यूज़ करके अपने कंटेंट को सर्च इंजन के फर्स्ट पेज में लाने में हेल्प कर सकते है.

On Page SEO क्या है 

Google द्वारा बहुत बड़े अपडेट किये गए थे जो panda,penguin hummingbird थे ,ये वेबसाइट स्ट्रक्चर और लिंक बिल्डिंग ,ancor text जैसे चीजे शामिल थी,गूगल की नजर में SEO important है। 

Google चाहता है की आपकी वेबसाइट पे आने वाला user खुश हो आपके कंटेंट से satisfied हो ,गूगल इसे ट्रैक करता है की आपकी वेबसाइट पर user कितनी देर Engage होता है ,google analytics से आप वेबसाइट परफॉरमेंस को ट्रैक कर सकते है।

On Page SEO  को आप फुल कंट्रोल कर सकते है और ये one time setup और Once in a  while के लिए setup किया जाता है। Title और Description meta tag बहुत जरुरी है जोकि न्यू ब्लॉगर गलती करते है। में यहाँ कुछ Factor दे रहा हु On Page SEO के 

जैसे :

  • Website should be crawlable
  • User Friendly URLs
  • Well Targeted Content
  • Keyword Optimization
  • Website Optimization
  • Image Optimization
  • Readibility & UX
  • CTR
  • Mobile Friendliness
  • Quality Outbound Links
  • Website Structure

OFF page SEO क्या है

Off page SEO का एक part है। Off page seo आपके साइट के रैंकिंग में काफी मदद करता है। जितना on page seo आपकी वेबसाइट  रैंकिंग  करता है उतना ही off page seo भी करता है। 

Off Page SEO कैसे करते है। 

जो नए bloggers होते है वे केवल अपने साइट पर आर्टिकल को optimize करके छोड़ देते है.ये उनकी बहुत बड़ी गलती है। इससे ब्लॉग या वेबसाइट रैंक नहीं होती है.तो आप लोग अंदाज़ा लगा सकते है कि off page seo हमारे blog या website के लिए कितना जरुरी है. 

१. Social Networking 

आप अपने वेबसाइट की सोशल नेटवर्किंग कीजिये। मतलब कि हर सोशल मीडिया पर अपना एक पेज या चैनल बनाइएा और वह अपने आर्टिकल्स को अपडेट करके रहिये। इसकी मदद से आपके वेबसाइट पर ट्रैफिक बढ़ जाता है। 

२. Article Submission 

आप दूसरों के ब्लॉग  आर्टिकल submit करते रहिये।इससे आपकी साइट का बैकलिंक भी
बनता ट्रैफिक भी उस वेबसाइट से आता है।  जिसे हम guest post  के नाम से भी जानते है 

३. Search Engine Submission 

अपने ब्लॉग या वेबसाइट इंजन में सबमिट करते रहिये जैसे की google search console में,इसी तरह हर सर्च इंजन का अपना एक टूल होता है.आप अपने वेबसाइट के आर्टिकल को manually सबमिट करते रहिये इससे आपका आर्टिकल जल्दी रैंक होता है.

2 . Search Engine Marketing (SEM)

SEM एक ऐसा process है जिसकी मदद से हम अपने ब्लॉग या वेबसाइट कर paid ट्रैफिक लाते है।

Search Engine Marketing जिसे हम short फॉर्म में SEM भी कहते है.यह search engine optimization (SEO) के  just उल्टा है.SEO की मदद से आप अपने blog या website पर free में traffic ला सकते है।

SEO में आपको traffic लाने में कमसेकम 6-7 महीने लग जाते है.लेकिन Search Engine Marketing (SEM) की मदद से आप अपने blog या website पर instant traffic ला सकते है. SEM की मदद से आपकी website google के first page
पर तुरंत rank करने लग जाती है।

Search Engine Marketing

एक paid तरीका है अपने blog या website पर ट्रैफिक लाने का. अपने blog या website को तुरंत search इंजन पर रैंक कराने के लिये हमे search engine जैसे कि google, yahoo, bing, etc. को पैसे देने पड़ते है.जिससे search engine हमारे वेबसाइट या ब्लॉग को first page पर रैंक होता है.

Search Engine Marketing में हम अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर ज्यादा audiences लाने के लिए हम अपने साइट का advertisement करते है.

Search Engine Optimization

एक organic तरीका है और Search Engine Marketing एक paid तरीका है. SEM की मदद से आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट को एक limited टाइम तक ही search engine के first पेज पर रैंक करा सकते है.जबकि SEO की मदद से आप अपने ब्लॉग या साइट को लम्बे समय तक सर्च इंजन के फर्स्ट पेज पर रैंक कर सकते है.

What Is PPC?

PAY PER Click

PPC का full form Pay Per Click होता है. जब आप किसी particular keyword पर अपने साइट को paid तरीके से फर्स्ट पेज पर रैंक कराते है. तो जब कोई अपने साइट पर जितनी बार click करेगा आपको उतनी बार पैसे देने होते है.जैसे कि users अपके साइट पर ads पर 10 बार क्लिक करके आपके साइट पर visit किये तो आपको 10×PPC देने पड़ते है.

Social media Marketing (SMM)

 Social media Marketing (SMM) को जानने से पहले हमे यह जानना जरूरी होगा कि  social media क्या है  ? सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफार्म है. जहाँ पर हम कई लोग से साथ एक दूसरे से जुड़ सकते है. जैसे कि instagram, facebook, linkedin, telegram, etc.

अगर हम अपने services या किसी products को सोशल मीडिया पर शेयर करेंगे तो उसे हम Social media Marketing (SMM) कहते है. सोशल मीडिया मार्केटिंग डिजिटल मार्केटिंग का एक भाग है.

Social media Marketing (SMM) के तहत आप कम समय में ज्यादा और specific लोगो तक अपने प्रोडक्ट्स को पहुँचा सकते है। यह एक off page seo का पार्ट है.Social media Marketing (SMM) में आप कम पैसे खर्च करके ज्यादासेज्यादा sells कर सकते है.

Social media Marketing (SMM) कैसे करें?

Social Media Marketing

सोशल मीडिया मार्केटिंग करते समय आपको कुछ बातों का ध्यान रखना पड़ता है.अगर आप सोशल मीडिया मार्केटिंग में इन बातों पर ध्यान देंगे तो आपको सफलता जरूर हासिल होगी.

  • Quality

मार्केटिंग में सबसे ज्यादा quality की डिमांड है.आप जितना हो सके उतना अपने audiences को अच्छी क्वालिटी का products दें.

  • Patients

 किसी भी field में तुरंत सफलता नही मिलती है. उसी तरह सोशल मीडिया marketing में भी तुरन्त सफलता नहीं मिलती है.आप patient रखे और अपना काम मेहनत से करते रहे.

  • Content Planning

दोस्तो सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है कि अपने content की प्लानिंग करना.आप अपने audiences को क्या content दे रहें है.क्या वह content आपके audiences के लिए फायदेमंद है .जितना हो सके अपने कंटेंट को शार्ट और क्लियर रखें.जिससे आपके audience में पूरा समझ में आए.

Email Marketing

जब आप कोई भी marketing e-mail के जरिये करते है उसे email marketing कहते है. Email Marketing एक ऐसा तरीका है जिसमे आपको 30% तक conversion rate मिलता है। यानी कि Email Marketing में आपको मेहनत कम करना होता है और profit ज्यादा होता है.

जैसे कि मैं एक example देकर समझता हूं कि ईमेल मार्केटिंग क्या है? आप देखे होंगे बहुत से लोग आपको free में e-books, templates, software, etc. देते है। और वे इसके बदले आपका email id ले लेते है.

यह इक्कट्ठा की गयी ईमेल्स उनको future में उनके bussiness को काफी grow कर देते है. मैं आशा करता हूं कि आप लोग ईमेल मार्केटिंग के बारें में समझ गए होंगे। चलिए अब जानते है कि आप email marketing कैसे कर सकते है.

 E-mail Marketing कैसे करते है ?

Email Marketing

Email Marketing करने से पहले आपको काफी emails इक्कट्ठा करना पड़ेगा.आप अपने blog या website की मदद से email list इकट्ठा कर सकते है.जैसे कि अपने website में subscription button लगा लें. या तो फिर आप लोगो की कुछ valuable products प्रोवाइड करवा के आप लोगो के ईमेल्स इक्कट्ठा कर सकते है.

ईमेल्स लिस्ट इक्कट्ठा होने के बाद आप ईमेल्स के जरिये लोगो को valuable प्रोडक्ट प्रोवाइड कीजिये.अपने customer को cold customer से warm customer बनाये.फिर warm customer को hot customer बनाये। इसके बाद धीरेधीरे अपने प्रोडक्ट को बेचना शुरू कर दें. 

अब आप अपने ईमेल्स लिस्ट के जरिये आप यूज़र्स को अपने products जैसे कि कोई paid software, videos, images, documents, etc. बेच सकते है.

Inbound Marketing And Outbound Marketing

यह मार्केटिंग काफी इंटरेस्टिंग marketing है. चलिए हम एकएक करके जानते है.Inbound Marketing और Outbound Marketing के बारें में.

Inbound Marketing

जब हम कोई product customer को डायरेक्ट sell कर देते है.उसे Inbound Marketing कहते है.सर्च इंजन Optimization, सर्च इंजन मार्केटिंग, सोशल मीडिया मार्केटिंग ये सब Inbound Marketing में आते है.जैसे कि आप ने अपने ब्लॉग पर किसी प्रोडक्ट का review दिए और उसका affiliate लिंक लगा दिए.

अगर यूजर उस लिंक के थ्रू प्रोडक्ट को purchase करता है तो इसे Inbound Marketing कहते है.आजकल यूजर सबसे ज्यादा सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते है. आप अपने प्रोडक्ट को डायरेक्ट सोशल मीडिया पर प्रमोट कर सकते है यह Inbound Marketing तरीका है.

Outbound Marketing

Outbound Marketing में आप यूज़र्स के ध्यान को एक जगह केंद्रित कर देते है.जैसे कि जब हम tv या मोबाइल पर video, film, etc. देख रहे होते है तो videos के बीच में कुछ ads show होने लगते है इसे Outbound Marketing कहते है.चलिए मैं आपको एक और उदाहरण लेकर समझता हूं।

जब हम tv या मोबाइल पर लाइव cricket मैच देख रहे होते है. तब एक ओवर कम्पलीट होने पर एक ads आता है.इस टाइप के advertisement को Outbound Marketing कहते है.

Inbound Marketing काफी फायदेमंद होता है. इसकी मदद अब आप प्रोडक्ट को target audience को भेच सकते है।

web analytics 

web analytics google द्वारा बनाया गया एक tool है। यह एक ऐसा tool है.जिसके मदद से आप अपने blog या website के traffic को ट्रैक कर सकते है.web analytics की मदद से आप live पता कर सकते है.कि आपके ब्लॉग या साइट पर real time कितने visitor है. यह google द्वारा बनाया गया एक बिलकुल फ्री टूल है.

Web analytics के फायदे?

अगर आप एक डिजिटल मार्केटर है तो आपको यह जानना बहुत जरुरी है. कि आपके website पर विजिटर आकर क्या करते है. मतलब कि विजिटर जिस चीज क बारें के जानने के लिए आपके साइट पर विजिट किये है क्या उनके सारे doubt दूर हो गए.

अगर आप के वेबसाइट का bounce rate ज्यादा है तो मतलब कि विजिटर जिस query को search कर रहे थे उनकी query solve नहीं हुयी। हम अपने website का bounce rate web analytics की मदद से track कर सकते है। 

ये आर्टिकल भी पढ़े  Google Analytics क्या है 

  • Visitor आपके वेबसाइट पर क्या करते है। 
  • आपके वेबसाइट पर रियल टाइम कितने users है। 
  • आपके site पर कहाँ से traffic आ रहा है। 
  • Visitor आपके वेबसाइट पर कितने आर्टिकल को पढ़ते है। 
  • आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट का bounce rate भी सकते है।

Facebook marketing

Facebook Marketing

दोस्तो फेसबुक एक सोशल मीडिया है.Facebook एक chatting platform है.Facebook पर 2 billions से ज्यादा यूज़र्स है. तो आप लोग जान गए ही होंगे कि acebook कितना बड़ा platform है.

कुछ लोग फेसबुक का इस्तेमाल केवल photos को like, share करने के लिए use करते है.लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि facebook से आप लाखो रुपए कमा सकते है.जब हम facebook के जरिये मार्केटिंग करते है तो उसे फेसबुक मार्केटिंग कहते है.

 Facebook से पैसे कैसे कमाएं?

फेसबुक मार्केटिंग करने से पहले आपको फेसबुक के features की पूरी जानकरी होनी जरूरी है. फेसबुक पर भी आपके बहुत सारे competitor होंगे। आपको सबसे पहले अपने competitor के ग्रुप्स, pages को analyses कर लें.

फेसबुक से आप कई तरह से पैसे कमा सकते है बस आपको इसे use करने कि technique आनी चाहिए.चलिए कुछ तरीकों के बारें में जानते है जिनके मदद से आप facebook मार्केटिंग कर सकते.

  • Facebook Group

फेसबुक ग्रुप की मदद से आप बड़े आसानी से मार्केटिंग कर सकते है.आपका bussiness जिस भी catagory से related है .आप उस catagory से related facebook ग्रुप को जॉइन कर लें.और daily अपडेट करते रहे. आप जितना चाहे उतना अपने product को फेसबुक पर फेसबुक group के मदद से पहुंचा सकते है.

  • Facebook Page

Facebook Page एक बहुत ही बढ़िया तरीका है अपने प्रोडक्ट को प्रमोट करने का.आप अपने business से रिलेटेड एक फेसबुक पेज बनाकर वहाँ अपने प्रोडक्ट्स को प्रमोट कर सकते है.

Instant Article क्या है  facebook से पैसे कमाने के लिए instant Article को पढ़े 

Conclusion 

डिजिटल मार्केटिंग वर्तमान समय की डिमांड है और आज हम इंडियन को समझना और सीखना जरुरी है.इसे daily life का एक हिस्सा समजे और professionaly इसे इस्तिमाल करके खुद की लाइफ और अपने आस पास के लोगो की भी लाइफ को बदले
highly Recommend Digital Marketing ,Affiliate Marketing ,Blogging

आपको ये आर्टिकल के द्वारा जानकारी केसी लगी जुरूर comment करे और share करे

Thank  you !

 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here